भारतीय भाषा सभक द्वारा ज्ञान

भारतीय भाषाओं द्वारा ज्ञान

Knowledge through Indian Languages

FAQs

भारतवाणी कि अछि? एहि परियोजनाक पाछू दर्शन कि अछि?

  • भारतवाणी एक परियोजना अछि, जकर उद्देश्य मल्टीमिडिया (पाठ, श्रव्य, दृश्य आ छवि)क उपयोग करैत भारतक सभ भाषाओँक बारेमे आ भारतीय भाषाओँमे उपलब्ध ज्ञानकेँ एक पोर्टल (वेबसाइट) पर उपलब्ध करैबाक अछि। ई पोर्टल समावेशी, संवादात्मक, आओर गतिशील होएत। मूल उद्देश्य अछि डिजिटल भारतक एहि युगमे, भारतकेँ एक ओपन ज्ञान (मुक्‍त ज्ञान) समाज बनेबाक लेल अछि।

भारतवाणी ज्ञान पोर्टलक लाभार्थी के होएत?

  • भारतवाणीक उपयोग विभिन्न सामाजिक, आर्थिक आ शैक्षणिक (औपचारिक आ अनौपचारिक) पृष्‍ठभूमिक तथा सभ आयु वर्गक लोग कए सकैत अछि। अर्थात भारतवाणी प्राथमिक विद्यालयोँक विद्यार्थियोँ सहित भारतक सभ नागरिकोँकेँ सेवा प्रदान करत।

भारतवाणीक लेल सामग्रीक संकलन कोना काएल जाएत?

  • भारतवाणी भारतक सभ सरकारी आ गैरसरकारी संस्थाओँ, शैक्षणिक संस्थानोँ, शैक्षणिक वोर्ड, पाठ्य-पुस्तकोँसँ संबंधित निदेशालयोँ, विश्‍वविद्यालयोँ, अकादमी आ प्रकाशन गृहोँ आदिसँ ज्ञान सामग्रीक संकलन मल्टीमिडियाक रूपमे सभ सूचीबद्ध भाषाओँमे करत।
  • भारतवाणी व्यक्‍तिगत संस्थाओँसँ सेहो आग्रह करत कि अनवरत ऑनलाइन उपयोगक लेल ओ अपन समग्रीकेँ साझा करू।
  • समग्रीक संकलन आ प्राथमिकता निर्धारणकेँ अनुमोदनार्थ प्रस्तुत कएल जाएत। संपादकीय समिति द्वारा प्रस्तुत सिफारिशोँ पर सलाहकार समिति द्वारा अंतिम निर्णय लेल जाएत।
  • भारतवाणीक ध्येय ज्ञान सामग्री प्रकाशित करब अछि। संगहि सलाहकार समिति द्वारा विशिष्‍ट मापदंडोँक आधार पर कथेतर (नॉन-फिक्शन) साहित्यकेँ सेहो प्रकाशित करत।

भारतवाणी सामग्रीक गुणवत्ता कोना सुनिश्‍चित करत?

 

 

A public information note on Bharatavani project (BvP)/ v 1.1 (DRAFT)                             Page 1 of 4

  • भारतवाणी समाग्री प्रकाशनक शुरुआतक विषयमे विशेषज्ञोँ द्वारा निर्मित सामग्री तथा प्रतिष्‍ठित संस्थानोँ द्वारा प्रकाशित सामग्रीसँ करत। एहि क्रममे सर्वप्रथम भारतीय भाषा संस्थान द्वारा प्रकाशित सामग्रीकेँ लेल जाएत।
  • नव सृजित सामग्रीक प्रकाशनक संदर्भमे भारतवाणी द्वारा प्रत्येक भाषाक लेल सृजित संपादकीय समिति द्वारा निर्णय लेल जाएत।
  • सभ प्रकारक गलतीसँ मुक्‍त सामग्रीक प्रकाशनक लेल एक तंत्र स्थापित कैल जाएत।

कि भारतवाणी भाषासँ संबंधित सूचना प्रद्योगिकी उपकरणोँकेँ प्रकाशित करत?

  • भारतवाणी, भारतीय भाषाओँक लेल उपलब्ध आ अद्यतित आईटी उपकरणोँकेँ प्रदर्शित करबाक लेल एक मंच प्रदान करत। ई संचार मंत्रालय आ सूचना प्रौद्योगिकी (एमसीआईटी)क संग समन्वय स्थापित करत, जे अपन विभिन्न एजेँसियोँ तथा— टीडीआईएल आदिक माध्यमसँ एहन उपकरणोँक विकासमे संलग्न अछि। भाषासँ संबंधित विभिन्न उपकरणोँ यथा— फॉन्ट, सॉफ्टवेयर, टंकण उपकरण, मोबाइल एप्स, बहुभाषी अनुवाद उपकरण, पाठसँ वाक् आ वाक्‌सँ पाठ आदिकेँ उपलब्ध कराओल जाएत।

वृहद पैमाना पर समाजक लेल भारतवाणीक कि लाभ अछि?

  • भारतवाणी, भारतीय भाषाओँ / मातृ भाषाओँकेँ बृहद पैमाना उपलब्ध कराओत, जकर परिणाम स्वरूप युवा पीढ़ी अपन सभ ऑनलाइन गतिविधियोँ यथा— ब्लागिंग, सामाजिक मीडिया, अध्ययन आदिक लेल मातृभाषाक प्रयोग करबाक लेल प्रोत्साहित्य होएत।
  • भारतवाणी, लुप्‍तप्राय भाषाओँ, अल्पसंख्यक भाषाओँ आ जनजातीय भाषाओँ / मातृभाषाओँकेँ इन्टरनेट पर एक महत्वपूर्ण स्थान दिआओत।
  • भारतवाणी, भारतक लगभग सभ भाषाओँ / मातृभाषाओँक संग-संग भारतक सभ समुदायक संग संपर्क स्थापित करब, दूर-दराजक क्षेत्रोँ तक पहुँचब आ सांस्कृतिक एकीकरणकेँ बढ़ेबाक कार्य करत।

सरकारी सूचनाओँकेँ प्रकाशित करत कि भारतवाणी?

  • भारतवाणी प्रयोजनाक, कृषि, व्यापार, शिक्षा, सामाजिक क्षेत्र, समय पर सेवा प्रदान करए वाला आ अन्य महत्वपूर्ण / आवश्यक पोर्टलसँ संबंध होएत, जाहिसँ सभ नागरिकोँकेँ एके पोर्टल पर ज्ञान आ सूचनाक प्राप्‍ति होएत।

भारतवाणीमे कोन-कोन भाषाओँकेँ सम्मिलित कैल गेल अछि?

  • पहिल वर्षमे 22 अनुसूचित भाषाओँ (असमिया, बंगाली, बोडो, डोगरी, गुजराती, हिन्दी, कन्नड़, कश्‍मीरी, कोंकणी, मलयालम, मणिपुरी, मैथिली, मराठी, नेपाली, उड़िया, पंजाबी, संताली, सिंधी, तमिल, तेलगू, आ उर्दू)केँ सम्मिलित कैल जाएत। ओकर बाद अन्य भाषाओँकेँ चरणबद्ध रूपसँ सम्मिलित कैल जाएत।

भारतवाणीक वास्तविक लक्ष्य कि अछि? भारतवाणीमे प्रकाशित सामग्री कोन तरहक होएत?

  • भारतवाणी अपन परिचालनक पहिल आ दोसर वर्षमे प्राथमिकताक आधार पर विषयसँ संबंधित ज्ञान सामग्रीक सृजन करत। तकर बाद आगूक पाँच वर्षोँक लेल प्रत्येक भाषा / मातृभाषासँ संबंधित विशिष्‍ट सामग्रीक निर्माणक लक्ष्य निर्धारित कैल गेल अछि। प्रारम्भमे विभिन्न भाषाओँमे सहजतासँ उपलब्ध सामग्रीकेँ प्रकाशित करबाक प्रयास कैल जाएत आ एकर शुरुआत भारतीय भाषा संस्थान द्वारा प्रकाशित सामग्रीसँ होएत।

 

A public information note on Bharatavani project (BvP)/ v 1.1 (DRAFT)                                         Page 2 of 4

  • भारतवाणी निम्नलिखित कार्योँक निर्वहन करत
  1. भाषा आ साहित्यक प्रलेखन डिजिटल आ इलेक्ट्रानिक स्वरूपमे तैयार करब
  2. लिपि तैयार करब आ ओकर नामांकन करब, टाइपोग्राफी कोड
  3. शब्दकोशोँ आ शब्दावलियोँक निर्माण
  4. साहित्य (लिखित आ मौखिक) वा ज्ञान ग्रंथोँक आधुनिक आ शास्‍त्रीय भाषाओँमे अनुवाद
  5. ऑनलाइन भाषा शिक्षण, अधिगम वा भाषा शिक्षक प्रशिक्षण प्रदान करत वा प्रमाण-पत्र देत तथा सतत, व्यापक मूल्यांकन सहित ऑनलाइन भाषा प्रशिक्षण आ मूल्यांकन पर सेहो ध्यान देत

कि भारतवाणीमे प्रकाशित समग्रीक निःशुल्क उपयोग कैल जा सकैत अछि? भारतवाणीमे समग्रीक कॉपीराइट कोना सुरक्षित कैल जाएत?

  • भारतवाणी, आम नागरिक. विशेष रूपसँ भारतीय नागरिकोँक संग ज्ञान बाँटबाक उद्देश्यसँ निर्मित नव युगक एक पोर्टल अछि। अतः भारतवाणी पोर्टल पर उपलब्ध सभ सामग्रीकेँ शैक्षिक आ अनुसंधान प्रयोजनोँक लेल निःशुल्क उपयोगक कएल जा सकैत अछि।
  • पोर्टल, भारतीय कॉपीराइट अधिनियम 1957क पालन करैत अछि, जे किछु एहन गतिविधियोँक अनुमति दैत अछि धारा 52क तहत कॉपीराइटक उल्लंघनक अन्तर्गत नहि अबैत अछि।

कि निजी संस्थानोँ आ व्यक्‍तियोँ द्वारा भारतवाणीक लेल योगदान कैल जा सकैत अछि? कि भारतवाणी द्वारा समग्रीक लेल मानदेयक भुगतान कैल जाएत?

  • हँ। ओ अपन मौलिक कथेतर साहित्य (नॉन-फिक्शन) / ज्ञान सामग्रीक निःशुल्क सार्वजनिक उपयोगक लेल योगदान कए सकैत अछि। लेखकक अधिकार हुनक योगदानक लेल देल जाएत। एहि प्रकारेँ उपलब्ध सामग्रीक स्वीकृति संपादकीय समितिक अनुमोदनक अधीन होएत।
  • भारतवाणी मातृभाषामे सामग्री प्रस्तुत करबाक लेल ऑनलाइन उपकरण उपलब्ध कराओत।
  • सामग्रीक सतत उपयोगक लेल मानदेयक दरोँक निर्धारण सलाहकार समिति द्वारा कैल जाएत, जे मौलिक सामग्रीक लेल निर्धारित वित्त्त, सामग्रीक मौलिकता आ ओकर विशिष्‍टता पर निर्भर करत।

शारीरिकरूपसँ विकलांग लोगोँक लेल भारतवाणी कोना सुलभ होएत?

  • भारतवाणी, पोर्टल विकसित करबामे भारत सरकारक दिशा-निर्देशोँक संग-संग अंतरराष्‍ट्रीय स्तर पर स्वीकृत मापदंडोँक सेहो अनुपालन करत।
  • भारतवाणी, निःशुल्क रूपमे पाठसँ वाक्‌क सुविधाकेँ, उपलब्ध भाषाओँमे प्रदान करत ताकि नेत्रहीन लोगोँ द्वारा सेहो वेबसाइट सामग्रीक उपयोग सहजतापूर्वक कए सकै।

यदि कोनो भारतवाणी पोर्टल पर उपलब्ध जानकारी / सूचनाक दुरुपयोग कए रहल अछि. तँ कि होएत?

  • भारतवाणी आम नागरिक पर विश्‍वास करैत अछि। भारतवाणीक सामग्रीसँ यदि कोनो साहित्य चोरी करैत अछि वा सामग्रीक दुरुपयोग करैत अछि तँ ओ तुरंत हमर ध्यानमे आनल जा सकैत अछि। भारतवाणी, भाषाओँकेँ सीखब आ प्रसारित करबाक लेल, जे भारतीय समाजक समृद्ध विरासतक संरक्षणमे सहयोगी होएत, अपन सामग्रीक उपयोगकेँ प्रोत्साहित करैत अछि।

भारतवाणीक प्रशासनिक संरचना कि अछि?

 

 

A public information note on Bharatavani project (BvP)/ v 1.1 (DRAFT)                                         Page 3 of 4

 

 

  • भारतवाणीक परिचालन
  1. प्रख्यात भाषावैज्ञानिकोँ वा विषय विशेषज्ञोँक एक सलाहकार समितिक द्वारा होइत अछि, जकर अध्यक्षता भारतीय भाषा संस्थानक निदेशक करैत अछि। ई समिति एक विशेषज्ञ सलाहकारक अध्यक्षतामे गठित कार्यान्वयन टीम आ एक समर्थन कार्यालयक मार्गदर्शन करत।
  2. पोर्टल आ भाषा उपकरणोँक तकनीकी पहलुओँ पर मार्गदर्शन प्रौद्योगिकी सलाहकार समितिक द्वारा प्रदान कैल जाएत।

भारतवाणीक परिचालन कतएसँ होइत अछि?

  • भारतवाणीक परिचालन भारतीय भाषा संस्थान, मैसूर (कर्नाटक)क परिसरसँ होइत अछि

 

पत्र-व्यवहारक पता

 

भारतवाणी परियोजना

 

भारतीय भाषा संस्थान (सीआईआईएल)

मानस गंगोत्री, हुन्सुर रोड, मैसूर 570,006

दूरवाणी: + 91-821-2515820 (निदेशक)

स्वागत-कक्ष(रिसेप्शन) / PABX: + 91-821-2345000

फैक्स: + 91-821-2515032 (कार्यालय)

परियोजना ई-मेल: bharatavaniproject@gmail.com

अधिक जानकारीक लेल श्री बेलुरु सुदर्शन, रिसोर्स पर्सन, भारतवाणी परियोजनासँ मोबाइस नंबर 9741976789 पर संपर्क करु अथवा bharatavaniproject@gmail.com पर ई-मेल भेजू

Click here to download FAQs

Search Dictionaries

Loading Results

Follow Us :   
  भारतवाणी ऐप डाउनलोड करू
  Bharatavani Windows App